आज से करीब एक सप्ताह पहले राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के अध्यक्ष मोहन भागवत ने अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए कानून की मांग की थी. अब विश्व हिंदू परिषद ने दावा किया है कि राम मंदिर निर्माण के लिए उसके द्वारा तैयारियां की जा रही हैं. वीएचपी ने दावा किया है कि उसने पत्थरों से भरे 70 ट्रक  कारीगरों का ऑर्डर दिया है. जो अयोध्या में पिलर  ढांचा बनाने का कार्य करेंगे.

वीएचपी ने बोला कि कानूनी बाधा समाप्त होने के बाद तीन मंजिला राम मंदिर का निर्माण होगा. बता दें कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर 29 अक्तूबर से सुप्रीम न्यायालय में सुनवाई प्रारम्भहोगी. वीएचपी के नेताओं का कहना है कि ये 70 ट्रक जल्द ही राम मंदिर के निर्माण के लिए अयोध्या भेजे जाएंगे.

वीएचपी का कहना है कि उनकी राम जन्मभूमि निर्माण कार्यशाला में पत्थर को तराशने का कार्य तेज हो गया है. राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के वीएचपी के प्रस्तावित मॉडल के हिसाब से अबतक मंदिर के प्रथम तल के निर्माण के लिए पत्थर तराशने का कार्य पूरा हो गया है. अब आगे के कार्य के लिए ये 70 ट्रक अयोध्या पहुंच सकते हैं. वीएचपी के अंतर्राष्ट्रीय वाइस प्रेजिडेंट चंपत राय का कहना है कि पत्थर एवं कारीगर भेजे जाएंगे ताकि कार्य में तेजी आए.

राय ने आगे कहा, ‘हम अपने कदम पीछे नहीं करेंगे. ये सच्चाई की विजय के लिए लड़ाई है. हम बस सुप्रीम न्यायालय के आदेश का इंतजार कर रहे हैं.‘ मंगलवार को भी अयोध्या में भारी पुलिस बल तैनात था. राम जन्मभूमि तक जाने का मार्ग भी बंद कर दिया गया.

हालांकि इस मामले में मुस्लिमों की तरफ से बोलने वाले इक्बाल अंसारी खुश नहीं हैं. उनका कहना है, ‘भाजपा की गवर्नमेंट को वीएसपी को रोकने की जरूरत है क्योंकि यह मामला अभी सुप्रीम न्यायालयमें लंबित है.